माँ झण्डेवाली देवी ( दैनिक दर्शन )
कोविड तात्कालिक दर्शन समय सारिणी
केवल लाइव दर्शन (केवल कोविड काल हेतु)।
YouTube एवम FaceBook के माध्यम से समय 09:00 से 21:00
आरती समय केवल कोविड काल हेतु।
मंगला आरती 06:00 बजे | प्रातः श्रृंगार आरती 09:00 बजे
दोपहर भोग आरती 12:00 बजे | सायं श्रृंगार आरती 07:30 बजे
शयन आरती पट बंद होने का समय रात्रि 09:00
आने वाले उत्सव
हमारे द्वारा आयोजित और निर्धारित उत्सव

श्रावण(सावन) का महीना

श्रावण(सावन) माह हिंदू पंचांग के अनुसार चैत्र माह से प्रारंभ होने वाले वर्ष का पांचवा महीना होता है। इसे वर्षा ऋतु का महीना भी कहा जाता है। श्रावण(सावन) मास भगवान् शिव को विशेष प्रिय है। इस माह में प्रत्येक सोमवार के दिन भगवान श्री शिव की पूजा करने से श्रद्धालुओं को समस्त सुखों की प्राप्ति होती है और उसकी सभी इछाएं पूर्ण होती है।अधिक पढ़ें

तात्कालिक कार्यक्रमो की समय सारणी।

  • प्रातः काल श्रृंगार आरती 06:00 बजे
  • सायं काल श्रृंगार आरती 07:30 बजे
  • प्रातः 09:00 बजे से सायं 05:30 बजे तक विभिन्न कलाकारों द्वारा माँ का गुणगान
  • शयन आरती रात्रि 09:00 बजे
  • विशेष :-करोना काल की विकट परिस्थति को ध्यान में रखते हुए प्रशासन के दिशा निर्देशों के अनुसार श्रद्धालुओं के लिए दर्शन अगली सूचना तक बंद रहेंगे।
  • श्रद्धालुओं की आस्था को ध्यान में रखते हुए आरती एवं दर्शनों का सीधा प्रसारण मंदिर के YouTube एवम Facebook चैनल पर प्रसारित किया जाता है ।

नवंबर महीने के त्यौहार और व्रत

दिनांक / वार तिथि / नक्षत्र व्रत पर्व त्यौहार
01.11.2021 एकादशी रमा एकादशी, गोवत्स द्वादशी
02.11.2021 द्वादशी प्रदोष व्रत यम दीपदान धनतेरस
03.11.2021 त्योदशी हनुमान जयन्ती , नरक चतुर्दशी, चतुर्दशी तिथि क्षय
04.11.2021 अमावस्या महालक्ष्मी पूजन व्रत, दीपावली पूजन समय 06:09 से 08:04 तक
05.11.2021 प्रतिपदा गोवर्धन पूजा, अन्नकूट
06.11.2021 वितीया भाई दूज विश्वकर्मा पूजन
08.11.2021 चतुर्थी दूर्वा गणपति व्रत
10.11.2021 षष्ठी छठ पूजा, सूर्यषष्ठी व्रत
11.11.2021 सप्मी गोपाष्टमी , दुर्गाष्टमी अष्टमी तिथि क्षय
12.11.2021 नवमी अक्षय नवमी
14.11.2021 एकादशी देवोत्यानी एकादशी, भीष्म पंचक प्रा.
15.11.2021 द्शी तुलसी विवाह
16.11.2021 द्वादशी प्रदोष व्रत,वृश्चिक संक्रान्ति द्वादशी तिथि वृद्धि
17.11.2021 त्रयोदशी बैकुंठ चतुर्दशी
18.11.2021 चर्दशी सत्यनारायण व्रत,भीष्म पंचक समाप्त
19.11.2021 पूर्णिमा कार्तिक पूर्णिमा, देवर्क ज. खंड निम्बार
  • जय माता दी ।
    कोविड महामारी के चलते और सरकारी दिशा निर्देशों के अनुसार मंदिर को भक्तों के लिए 12.04.2021 सायं आरती के बाद अगले आदेश तक बंद करने का निर्णय लिया गया है। सभी बंधु सुरक्षित रहें स्वस्थ रहें! मां झण्डेवाली सदा कल्याण करें।